Monday, July 26, 2021

दुनियाभर में आलोचनाओं के बाद USA ने बढ़ाया मदद का हाथ: बढ़ेगा वैक्सीन प्रोडक्शन

राष्ट्रीय

भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की सुनामी आई है. ऐसे में भारत में वैक्सीन प्रोडक्शन में भी कमी आ गयी थी क्योंकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए बनाई जाने वाली वैक्सीन के लिए हमे कच्चा माल (रॉ मैटेरियल) का बड़ा हिस्सा अमेरिका से मिलता है. लेकिन पिछले कुछ दिनों से अमेरिका प्रशासन द्वारा उस कच्चे माल के निर्यात पर रोक लगा दी और गैरजिम्मेदाराना बयान दिया गया था. जिसके बाद भारत सहित दुनियाभर में अमेरिका की आलोचना हुई. कि कैसे अमेरिका एक सेल्फिश देश बन गया है.

दुनियाभर में अमेरिका की निंदा के बाद अब खबर है कि अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने तत्काल भारत की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है. भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA )  अजित डोभाल और अमेरिका के NSA जेक सुलिवन की बातचीत के बाद अमेरिकी प्रशासन ने कच्चे माल की सप्लाई शुरू करने के साथ हर तरीके से भारत की मदद करने का आश्वासन दिया है.

यह जानना जरूरी है: 24 घंटे में 3.5 लाख नये मामले आये तो 2.18 लाख लोग ठीक भी हुए…

इसके अलावा पिछले वर्ष अमेरिका में आई पहली लहर के समय भारत द्वारा की गयी मदद को ध्यान में रखते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक ट्वीट कर लिखा है कि, ”महामारी की शुरुआत में जब हमारे अस्पतालों पर भारी दबाव था उस समय भारत ने अमेरिका के लिए जिस तरह सहायता की थी, उसी तरह भारत की जरूरत के समय में मदद करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं.”

राष्ट्रपति के अलावा अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने भी भारत में कोरोना वायरस को लेकर ट्वीट किया है. ट्वीट करते हुए हैरिस ने लिखा है कि, ‘अमेरिकी सरकार, कोविड-19 के प्रकोप के समय भारत को अतिरिक्त सपोर्ट और सप्लाई मुहैया कराने के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रही है. हम भारत के लोगों के लिए प्रार्थना करते हैं, खासकर उसके बहादुर हेल्थकेयर वर्कर्स के लिए.’

पत्रकार से लेकर देश के मुख्य न्यायाधीश तक: जस्टिस नाथुलापति वेंकट रमन्ना बने देश के 48वें CJI

अमेरिकी प्रशासन भारत को वैक्सीन निर्माण के लिए कच्चे माल के साथ साथ, ऑक्सीजन, हेल्थ वर्कस को बचाने के लिए रैपिड डाइगोनॅस्टिक टेस्ट किट, वेंटिलेटर और पीपीई किट सहित कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हर जरूरी सामग्री को उपलब्ध करवाने की बात कही है.

ख़ास बात यह है कि अमेरिका द्वारा NSA डोभाल और सुलिवन के बीच हुई बातचीत के दौरान अमेरिकी की ओर से भारत को मदद देने के लिए कई जगह पर तत्काल जैसे शब्दों का अप्रयोग किया गया है.

भारत में बढ़ेगा वैक्सीन निर्माण

अमेरिकी सरकार द्वारा कच्चे माल की निर्यात पर लगी रोक हटाने जाने के ऐलान के बाद भारत में वैक्सीन निर्माण तेजी से बढ़ेगा. जिससे न सिर्फ भारत की जरूरतें पूरी होंगी, बल्कि उन अफ्रीका और लैटिन अमेरिका के देशों तक वैक्सीन समय पर पहुँच सकेगी.

देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें.

- Advertisement -

More Article

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
- Advertisement -




Latest News