July 6, 2020
Headlines अंतरराष्ट्रीय

चीन के खिलाफ एशिया में सेना बढ़ाएगा अमेरिका

नई दिल्ली: एशिया चीन को काउंटर करने के लिए अमेरिका ने अपनी सेनाओं को एशिया में बढ़ाने का फैसला किया है. अमेरिकी सेनाएं आने वाले समय में दक्षिण चीन सागर में बढ़ा सकता है. साथ ही एशियाई देशों को भी चीन की विस्तारवादी नीतियों ने बचाने के लिए उतर सकता है जिनके लिए चीन बड़ा ख़तरा बना हुआ है.

बतादें कि अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि भारत और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के सामने चीन के बढ़ते खतरे को देखते हुए ही अमेरिका यूरोप में अपने सैनिकों की तैनाती कम करके उन्हें एशियन देशों की ओर भेजने जा रहा है. विदेश मंत्री पोम्पियो से जब पूछा गया कि अमेरिका जर्मनी से अपनी सेनाएं क्यों हटा रहा है. तो पोम्पियो ने कहा कि चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के कदम ये दर्शाते हैं कि भारत के सामने चुनौती, वियतनाम के सामने खतरा है, मलेशिया, इंडोनेशिया और दक्षिण चीन सागर में चीन परेशानी बन रहा है.

Loading...

CBSE बोर्ड: 10वीं की परीक्षाएं रद्द, लेकिन 12वीं के लिए बना है यह विकल्प    

पोम्पियो ने आगे कहा, ” हम इस बात को सुनिश्चित करने जा रहे हैं कि इन चुनौतियों से निपटने के लिए अमेरिकी सेना की तैनाती उचित रूप से रहे. जहाँ एशिया के हिंद महासागर के अलावा जापान, दक्षिण कोरिया और फिलीपींस में पहले से ही अमेरिका का सैन्य अड्डा बना हुआ है. ऐसे में अब अमेरिकी सेना आने वाले समय में वियतनाम, इंडोनेशिया, मलेशिया जैसे देशों को भी चीन के प्रभाव से बचाने के लिए सेना भेज सकता है.

राजस्थान-महाराष्ट्र: बैन हुई बाबा रामदेव की कोरोना की दवाई कोरोनिल

जिससे एशिया में चीन की दादागिरी से यह देश बच सके. अमेरिका ने यह फैसला ऐसे मौके पर लिया है जब चीन का भारत के साथ लद्दाख में कई जगह विवाद चल रहा है.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply