August 9, 2020
उत्तर प्रदेश

लखनऊ प्रदर्शन: 150 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार, 17 दर्ज हुई FIR

डेस्क: नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के राजधानी लखनऊ में हुए हिंसक प्रदर्शनों और आगजनी की घटनाओं पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपनाया है. उधर सरकार के कड़े रुख के बाद पुलिस ने हिंसा और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है.

बतादें कि मोदी सरकार के नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन हुआ था. प्रदर्शन की आड़ में जमकर आतंक मचाया गया. पुलिस चौकी और दर्जनों पुलिस एक वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया था. हिंसक प्रदर्शन को लेकर गुरुवार को ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनाया था. जिसके बाद शुक्रवार होते होते यूपी पुलिस ने सार्वजनिक समाप्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ सख्त करवाई शुरू कर दी है. शुक्रवार तक लखनऊ में हिंसक प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए पुलिस 150 से अधिक लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

IND vs WI: 107 रनों से भारत की जीत, अब सीरीज के लिए भिड़ेंगी दोनों टीमें

Loading...

जबकि इस मामले में 17 FIR दर्ज की जा चुकी हैं. पुलिस की गिरफ्तार में कई विपक्षी दलों के नेता भी आये हैं जिनपर गुरुवार को  लखनऊ में प्रदर्शन को हिंसक बनाने का आरोप लगा है. आपको जानकारी हो कि गुरुवार को राजधानी दिल्ली के साथ साथ उत्तर प्रदेश के कई शहरों में प्रदर्शन हुआ. जिसमें उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कई इलाकों में हिंसक प्रदर्शन देखने को मिला है. उग्र प्रदर्शन में दर्जनों वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया है. जिसमें पुलिस और आम नागरिकों के भी वाहन शामिल हैं. वहीँ इस प्रकार के प्रदर्शन पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनाया है.

राजधानी दिल्ली में बढ़ा CAA का विरोध: 16  मेट्रो स्टेशन के दरवाजे बंद

उन्होंने एक न्यूज़ एजेंसी से बात करते हुए पहले तो इसे प्रदर्शन के नाम पर हिंसा करार दिया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदर्शनकारियों के हिंसक व्यवहार पर नाराजगी जताते हुए बैठक बुलाई है. उन्होंने कहा कि, ‘आप प्रदर्शन के नाम पर हिंसा नहीं कर सकते. हम ऐसे तत्वों के खिलाफ कड़ा एक्शन लेंगे. जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे उनकी संपत्ति जब्त की जाएगी और सार्वजनिक संपत्ति को हुए नुकसान का हर्जाना वसूला जाएगा’.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply