May 23, 2019
देश मुख्य खबरें

आधार कार्ड न होने से नहीं मिला राशन: भूख से तड़प कर दो मासूमों की मौत…

डेस्क: सरकारें कितने भी विकास और कथित रूप से गरीबों के लिए योजनायें की बातें कर लें, लेकिन हकीकत यही है कि सरकारी दावे तब फेल हो जाते हैं जब आजादी के 70 साल बाद भी देश में भूख से तड़प कर लोगो की मौत होती हो.

पूरा मामला आंध्रप्रदेश का है. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आंध्र प्रदेश के अनंतपुर में भूख से तड़प कर दो मासूमों की मौत हो गयी. उससे पहले मासूमों ने भूख मिटाने के लिए मिट्टी भी खाई लेकिन पेट की आग ने उन्हें हमेशा के लिए निगल लिया. इस झकझोर देने वाली घटना को लेकर डॉक्टर और पीड़ित के पड़ोसियों ने बताया है कि मरने वाले बच्चे संतोष (3) और वेन्नेला (3) साल की है. दोनों मौसेरे भाई-बहन हैं. इन दोनों बच्चों के माता-पिता दिहाड़ी मजदूर हैं. रिपोर्ट के अनुसार संतोष की मौत 6 महीने पहले हो गई थी जबकि उसकी मौसेरी बहन वेन्नेला की मौत 28 अप्रैल को हुई थी.

इस बारे में जिले के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी केवीएनएस अनिल कुमार ने बताया, ‘दोनों के माता-पिता काम की तलाश में बच्चों को दादी के पास छोड़ देते थे जहां उनकी ठीक से देखभाल नहीं हो पाती थी. मौत के बड़ा बच्चों पोस्टमार्टम नहीं हुआ था, लेकिन उनकी मौत भूख और कुपोषण से ही हुई है. वहीँ इस बारे में पड़ोसियों का कहना है कि दोनों बच्चे माता पिता के काम पर जाने के बाद भूख से बिलखते थे.

बच्चों ने भूख मिटाने के लिए मिटटी भी खानी शुरू कर दी थी. आगे पड़ोसियों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि गरीब परिवार के पास आधार कार्ड न होने के कारण राशन कार्ड नहीं बन पा रहा था. जिससे किसी सरकारी सुविधा का लाभ परिवार को नहीं मिल रहा था.

Loading...

फिलहाल बच्चों की मौत के बाद परिवार के बाकी बच्चों को एक एनजीओ की मदद से बाल गृह भेज दिया गया है.

Loading...

Related Posts