June 19, 2019
उत्तर प्रदेश मुख्य खबरें

फ्रीलांसर पत्रकार प्रशांत की गिरफ़्तारी पर SC ने लगाई पुलिस को फटकार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले फ्रीलांसर पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ़्तारी को लेकर मंगलवार को सुरीम कोर्ट में सुनवाई हुई. जहाँ कोर्ट ने गिरफ़्तारी को लेकर उत्तर पदेश पुलिस को फटकार लगाई. साथ ही पत्रकार को तुरंत रिहा करने का भी आदेश दिया.

बतादें कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सोशल मीडिया पर एक पोस्ट करने वाले फ्रीलांसर पत्रकार की उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ़्तारी को लेकर आज देश की सबसे बड़ी अदालत यानी की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. जहाँ सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश पुलिस को फटकार लगाई और पूछा कि ट्वीट के लिए गिरफ्तारी की क्या ज़रूरत थी? कार्रवाई अपनी जगह है, लेकिन गिरफ्तारी क्यों की गई?

साथ ही कोर्ट ने फ्रीलांसर पत्रकार प्रशांत कनुँजिया को तुरंत रिहा करने का भी आदेश दिया है. आगे सुप्रीम कोर्ट  ने इस तरह की होने वाली गिरफ़्तारी को लेकर कहा, “हम पत्रकार की तत्काल ज़मानत पर रिहाई का आदेश देते हैं. मजिस्ट्रेट अपने हिसाब से ज़मानत की शर्तें तय कर सकते हैं.

Loading...

हालांकि, इस आदेश को किसी ट्वीट को हमारी स्वीकृति के तौर पर न देखा जाए.’ आगे कोर्ट ने यह भी कहा कि, जब मौलिक अधिकार का हनन हो तो हम आंख बंद नहीं रख सकते. हम ये नहीं कह सकते कि याचिकाकर्ता हाईकोर्ट जाए. इससे पहले यूपी सरकार ने कहा था कि पत्रकार को गिरफ्तारी के बाद मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया है. फ्रीलांसर पत्रकार की गिरफ़्तारी के खिलाफ सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई गयी थी.

Loading...

Related Posts