August 11, 2020
Headlines उत्तर प्रदेश

विकास के मारे जाने से खुश हैं शिवली के लोग: बांटी मिठाई- किया पुलिस का सम्मान  

कानपुर: कानपुर देहात के बिकरु गाँव के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का शुक्रवार को कथित एनकाउंटर में मार गिराया गया है. पुलिस एसटीएफ के इस एनकाउंटर पर अब ही भी सवाल उठ रहे हैं, लेकिन आतंक का पर्याय बन चुके हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के खात्मे के बाद कई क्षेत्रों में ख़ुशी की लहर देखी गयी है. विकास के आतंक से पीड़ित लोगों ने तो इसे नई जिन्दगी करार दिया है.

बतादें कि कानपुर नगर और देहात क्षेत्र में कई गाँवों में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का आतंक था. जमीन कब्जा करना, धमकाना आदि सब  पुराना हो गया था. कई लोगों की माने तो हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे जबरन लड़कियों की शादी अपने गुर्गों से करवा देता था! ऐसे में आतंक के पर्याय बन चुके हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के मारे जाने की खबर के बाद कानपुर क्षेत्र के शिवली पंचायत क्षेत्र में शनिवार की सुबह कुछ ख़ास रही.

ED करेगी विकास दुबे की संपत्ति की जांच: विदेश में भी संपत्ति होने की संभावना…

Loading...

कुछ लोग पुरानी हवा में भी नयी ताजगी महसूस कर रहे थे. शिवली  के लोग विकास दुबे से इतना खौफ खाते थे कि उनका कहना है कि उन्हें आज नई आजादी मिली है. साल 2000 में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने अपने ही पुराने दोस्त लल्लन वाजपेयी पर हमला करवाया था. लल्लन वाजपेयी के घर विकास दुबे ने साल 2002 में बम और गोलियों चलवाई थीं. इस हमले में तीन लोग मारे गये थे जबकि वह खुद गंभीर रूप से घायल हो गये थे. इस हमले के बाद हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और लल्लन के बीच दुश्मनी की दीवार बढ़ गयी और इसका खामियाजा पूरे गाँव को भुगतना पड़ा.

तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले: यूपी में 13 जुलाई तक लॉकडाउन…

दरअसल हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने शिवली गाँव को ही अपने अपराध का अड्डा बना लिया था. लेकिन शुक्रवार सुबह उसके मारे जाने की खबर के बाद यहां के लोगों को लग रहा है कि उन्हें एक नई आजादी मिली है. हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के आतंक से पीड़ित लल्लन ने कहा ‘विकास’ युग का अंत हो गया है, आतंक युग का अंत हो गया है और अब शांति के समय की शुरुआत हो गई है. इस मौके पर लल्लन वाजपेयी ने लोगों में मिठाई भी बांटी और पुलिसकर्मियों का सम्मान किया.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply