May 23, 2019
बड़ी खबर

अलवर सामूहिक रेप मामला: पुलिस को क्यों बचा रही है सरकार…

अलवर: राजस्थान के अलवर जिले में दलित युवती के साथ हुए गैंगरेप मामले में पुलिस की भी मिलीभगत का पता चला है. पीड़ित परिवार द्वारा इसबात का आरोप लगाया गया है कि पुलिस में मामला दर्ज करवाने के बाद दबंगों ने पुलिस को कई बार फोन किया है. जिसके बाद ही पुलिस ने कार्रवाई करने से मना किया था. लेकिन रेप के खिलाफ समुदाय का प्रदर्शन बढ़ता देख पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

बतादें कि राजस्थान के अलवर में हुए सनसनीखेज गैंगरेप मामले में पुलिस ने अभी तक पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. यह गिरफ्तारी तक हुई है जब लगातार गैंगरेप के खिलाफ समुदाय का प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है. बुधवार को भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर ने दलित युवती के साथ गैंगरेप करने वाले आरोपियों का सामाजिक बहिष्कार करने की मांग की है. चंद्रशेखर ने आगे कहा कि अलवर जिले में ऐसी घटनाएं आम हो गई हैं, लेकिन अधिकारी लापरवाह नजर आते हैं.

चंद्रशेखर ने अलवर के पुलिस अधीक्षक को लेकर कहा कि आरोपी पक्ष के लोग पुलिस अधीक्षक अलवर को फोन करते हैं. उन्होंने आगे कहा कि, ऐसे पुलिस अधीक्षक का स्थान जेल में है और उन्हें जेल मिलनी चाहिए. चंद्रशेखर ने पुलिस पर पैसे लेने का भी आरोप लगाया है. वहीँ मामला बढ़ता देख पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पाँचों आरोपियों की पहचान इन्द्राज गुर्जर, अशोक गुर्जर, मुकेश गुर्जर, छोटे लाल गुर्जर और हंसराज गुर्जर है. वहीँ इस मामले में पीड़ित पक्ष ने पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाया है.

Loading...

ऐसे में इसशर्मनाक मामले में प्रशासन की ओर से अपने ही डिपार्टमेंट पर कोई भी कार्रवाई नहीं की गयी है? हालाँकि एक थान्दर को सस्पेंड किया गया है और एसपी को एपीओ कर दिया.

Loading...

Related Posts