July 2, 2020
Headlines राजनीति

नागरिकता संशोधन कानून पर पीएम मोदी का बड़ा बयान: देश के काम के लिए गुस्सा भी…

डेस्क: नागरिकता संशोधन कानून को लेकर एक ओर देशभर में बवाल मचा हुआ है. इधर शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने बढ़े विरोध के बीच नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बड़ा बयान दे डाला है. उनका यह बयान विपक्ष को एक जवाब भी है जो इस कानून को वापस लेने की मांग पर प्रदर्शनों की अगुवाई कर रहे हैं.

बतादें कि शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी राजधानी दिल्ली में ASSOCHAM के कार्यक्रम को संबोधित करने पहुंचे हुए थे. जहाँ पीएम मोदी ने अर्थव्यवस्था, GST और ईज़ ऑफ डूइंग जैसे कई मामलों पर अपनी बात रखी. इसी दौरान नागरिकता कानून को लेकर जारी विरोध पर पीएम मोदी ने कहा देश के लिए काम करने में काफी गुस्सा झेलना पड़ता है, कई लोगों की नाराजगी झेलनी पड़ती है इसके अलावा कई आरोपों से गुजरना पड़ता है.

Loading...

UP: CAA के विरोध को देखते हुए इन जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद

दरअसल जब से नागरिकता संशोधन कानून (2019) लागू हुआ है तभी से देशभर में इसका विपक्ष दवरा विरोध किया जा रहा है. कई जगह विरोध की आड़ में हिंसा और आगजनी भी की जा चुकी है. उधर विपक्ष इस कानून को वापस लेने की मांग कर रहा है तो ऐसे में गृहमंत्री अमित शाह के बाद अब पीएम नरेन्द्र मोदी ने भी इशारे इशारों में साफ़ कर दिया है कि नागरिकता संशोधन कानून पर चाहे कितना भी विरोध प्रदर्शन कर लो यह कानून वापस होने वाला नहीं है. वहीँ शुक्रवार को ASSOCHAM के कार्यक्रम में पीएम मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था को लेकर भी कई बातें कहीं. पीएम मोदी ने कहा कि आपकी सौ साल की यात्रा में कई उतार-चढ़ाव आए होंगे, अनेक लोगों ने इसकी अगुवाई की होगी सभी अभिनंदन के पात्र हैं.

संभल हिंसा: सपा के सांसद और जिलाध्यक्ष सहित पर मुकदमा दर्ज

सौ साल की यात्रा का मतलब है कि आपने भारत के आजादी आंदोलन और आजादी के बाद को देखा है. 2014 से पहले जब अर्थव्यवस्था तबाह हो रही थी, उसे संभालने वाले तमाशा देख रहे थे. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश की साख कहां थी, ये सभी जानते हैं. आगे पीएम मोदी ने कहा कि 2020 के साथ नया दशक सभी के लिए सुख समृद्धि लाए, इसके लिए बधाई. 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था की बात अचानक नहीं आई है, पिछले पांच साल में देश मजबूत हुआ है इसलिए ऐसे लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply