July 6, 2020
Headlines स्वास्थ्य

पतंजलि की लॉन्च हुई कोरोना वैक्सीन: दावा-7 दिन में ठीक हो रहे 100 फीसद मरीज  

हरिद्वार: स्वदेशी और आयुर्वेदिक तरीके से पतंजलि संस्थान ने कोरोना वायरस की प्रभावी वैक्सीन बनाने का दावा किया है. मंगलवार को पतंजलि संस्थान के प्रमुख और योगगुरु रामदेव और बालकृष्ण ने कोरोना वैक्सीन को वैज्ञानिक विवरण के साथ लॉन्च किया.

बतादें कि मंगलवार को पतंजलि संस्थान की ओर से बाबा रामदेव ने हरिद्वार में कोरोना वायरस की वैक्सीन कोरोनिल दवा की लॉन्चिंग की. इस मौके पर बाबा रामदेव ने कहा कि दवा का हमने दो ट्रायल किये हैं. पहला- क्लिनिकल कंट्रोल स्टडी, दूसरा- क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल. प्रेस वार्ता के दौरान रामदेव ने बताया कि, ‘दिल्ली से लेकर कई शहरों से क्लिनिकल कंट्रोल स्टडी के लिए 280 रोगियों को सम्मिलित किया.

खुलासा: भारतीय बलों को हल्के में आंक चीनी सेना ने किया था हमला, लेकिन दांव पड़ गया उलटा

क्लिनिकल स्टडी के रिजल्ट में 100 फीसदी मरीजों की रिकवरी हुई और एक भी मौत नहीं हुई. इस ट्रायल में हल्के और गंभीर दोनों तरह के लक्षण वाले मरीजों को शामिल किया गया था. जबकि दूसरे चरण में क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल किया गया. जिसमें 100 लोगों को शामिल किया गया. वैक्सीन के प्रयोग के बाद 3 दिन में ही उनपर प्रभावी असर दिखाया और 69 फीसदी रोगी रिकवर हो गए.

यह इतिहास की सबसे बड़ी घटना है. रामदेव ने दावा किया कि सात दिन के अंदर 100 फीसदी रोगी रिकवरी हो गए. हमारी दवाई का सौ फीसदी रिकवरी रेट है और शून्य फीसदी डेथ रेट है. उन्होंने आगे बताया कि कोरोना वायरस महामारी रोकने के लिए बनाई गयी वैक्सीन के ट्रायल के लिए कई अप्रूवल लेने होते हैं. इसके लिए उन्हें भी एथिकल अप्रूवल, सीटीआईआर का अप्रूवल और रजिस्ट्रेशन करना हुआ था. आगे उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का इलाज आयुर्वेद में मौजूद है. जिसको लेकर कई वैज्ञानिकों और डॉक्टरों की टीमों ने दिन रात एक करके इस आयुर्वेदिक और देशी वैक्सीन को बनाया है.

Loading...

इस वैक्सीन में मुलैठी-काढ़ा समेत कई चीज़ों को डाला गया है. साथ ही गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासरि का भी इस्तेमाल हुआ है जोकि सभी रोग प्रतिरोधक और शरीर को बाहरी विषाणुओं से बचाने में मदद करने वाले आयुर्वेद चीजें हैं.

भारत को सबक सिखाने के लिए चीनी सेना ने किया था हमला: ख़ुफ़िया रिपोर्ट में खुलासा  

फिलहाल पतंजलि संस्थान की यह दवा अगले सात दिनों में सभी पतंजलि स्टोर पर मिलनी शुरू हो जायेगी. हालाँकि अभी इस दवा को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय या सरकार की ओर से कोई भी आधिकारिक ऐलान नहीं किया गया है.

ऐसे में देखना होगा कि पतंजलि संस्थान की इस देशी वैक्सीन पर सरकार का क्या मत हैं और क्या यह दवा वास्तव में कोरोना के सभी मरीजों पर काम करती है.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply