December 14, 2019
मुख्य ख़बरें राजनीति

शरद के साथ आये दो और MLAs: अजीत पवार को वापस लाने के लिए उनके साथी को मिली जिम्मेदारी

डेस्क: महाराष्ट्र सरकार और राज्यपाल के सरकार गठन के आदेश को लेकर एक ओर मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है जहाँ आज इस मामले पर सुबह एकबार फिर से सुनवाई होनी है. तो दूसरी ओर एनसीपी ने पार्टी से बगावत कर बीजेपी के साथ सरकार बनाने अजीत पवार को वापस लाने की कोशिश तेज कर दी है. इस कोशिश में अब छगन भुजबल का नाम भी जुड़ गया है.

बतादें कि महाराष्ट्र में जिस तेजी से अजीत पवार ने बीजेपी को समर्थन देकर सरकार बनवाई है उसी तेजी से अब बीजेपी की देवेंद्र फड़णवीस सरकार पर संकट के बादल बढ़ रहे हैं. जहाँ एक ओर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को सुनवाई के दौरान महाराष्ट्र में सभी पक्षों को नोटिस जारी करते हुए सरकार गठन से जुड़े सभी आदेश और कागजातों को सुबह कोर्ट में पेश करने को कहा है तो दूसरी ओर एनसीपी ने अब अजीत पवार को साथ लाने की भी कोशिश तेज कर दी है.

Loading...

‘संघ चाहता है कि बीजेपी-शिवसेना के साथ ही बनाए सरकार’

शनिवार को भले ही एनसीपी के विधायक दल के नेता के पद से उन्हें हटा दिया गया हो लेकिन अब पार्टी उन्हें फिर से वापस लाने की मुहिम चला रही है. रविवार को एनसीपी लीडर और विधायक दल के नेता जयंत पाटील ने अजीत को मनाने की कोशिश की तो वहीँ अब खबर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल सोमवार सुबह अजित पवार से मुलाकात करेंगे. शरद पवार के खेमे का कहना है कि उन्हें 54 में 53 विधायकों का समर्थन मिल गया है. गुरुग्राम से 4 विधायकों को मुंबई ले जाया गया है.

‘संघ को भी नहीं पसंद आई! बीजेपी-एनसीपी की बेमेल जोड़ी, शिवसेना को साथ लाने की कोशिश’    

एनसीपी और शरद पवार के साथ 54 में से 53 विधायकों का साथ मिल चूका है. ऐसे में अजीत पवार अलग थलग पड़ चुके हैं. लेकिन एनसीपी उन्हें एकबार फिर से साथ लाने की कोशिश में जुटी हुई है. वहीँ शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन ने 165 विधायकों के साथ होने की बात कही है. ऐसे में अब सभी की निगाहें सुप्रीम कोर्ट पर टिकी हुई हैं कि सोमवार को 10:30 बजे सुनवाई में कोर्ट क्या आदेश देता है.

Loading...

Related Posts