July 2, 2020
Headlines राष्ट्रीय

सावरकर-गोडसे पर MP कांग्रेस ने किया ऐसा खुलासा: उखड़ गयी बीजेपी- MH सरकार पर पड़ेगा प्रभाव…  

भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस पार्टी के कांग्रेस सेवादल ने एक बुकलेट जारी कर वीर सावरकर और नाथूराम गोडसे को लेकर विवादित साहित्य प्रकाशित किया है. इस साहित्य के सामने आने के बाद बीजेपी भडक गयी है. बीजेपी ने इसे न सिर्फ स्वतंत्रता सेनानी सावरकर का अपमान बताया है. बल्कि इसे बाला साहेब ठाकरे के विचारों का भी अपमान बताया है.

बतादें कि मध्य कांग्रेस के कांग्रेस सेवादल ने राजधानी भोपाल में एक बुकलेट जारी की है. इस बुलेट में विनायक दामोदर सावरकर और नाथूराम गोडसे को लेकर विवादित जानकारी प्रशासित की गयी है. राजधानी भोपाल में आयोजित कांग्रेस के सेवा दल प्रशिक्षण शिविर में ‘वीर सावरकर कितने वीर’ नाम की इस बुकलेट में कांग्रेस ने सावरकर की जिंदगी से जुड़े कथित खुलासे किये हैं. इसी बुकलेट में बताया गया है कि वीर सावरकर ब्रह्मचर्य के ग्रहण करने से पहले नाथूराम गोडसे से शारीरिक संबंध थे. कांग्रेस की इस बुकलेट के सामने आने के बाद बीजेपी भड़क गयी है.

पीएम मोदी का बड़ा हमला: संसद के खिलाफ खड़ी हो गई कांग्रेस पार्टी…  

बीजेपी नेता और आईटी सेल के इंचार्ज अमित मालवीय ने इसे स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर और बाला साहेब ठाकरे का भी अपनाम बताया है. बीजेपी नेता अमित मालवीय ने कहा, ‘कांग्रेस और उसके सहयोगी लगातार वीर सावरकर का अपमान कर रहे हैं. यह कुछ और नहीं बल्कि कांग्रेस द्वारा उद्धव ठाकरे को अपमानित करने का एक तरीका है, जिनके पिता महान बाला साहेब ठाकरे वैचारिक मुद्दों पर कोई समझौता नहीं करते थे’. उधर कांग्रेस पार्टी की बुकलेट में सावरकर को लेकर दी गयी विवादित जानकारी से महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस के बीच विरोध की खाई को और भी बढ़ा सकता है.

पैर छूने के लिए झुकी महिला: तो पीएम मोदी ने खुद झुक कर किया प्रणाम

दरअसल शिवसेना कई मर्तबा वीर सावरकर की तारीफ़ और उन्हें भारत रत्न देने की मांग कर चुकी है. ऐसे में कांग्रेस द्वारा सावरकर को लेकर इस प्रकार का विवादित साहित्य जारी करने से महा विकाश अघाड़ी की गाड़ी पटरी से उतरने के चांस बढ़ गये हैं. महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन वाली सरकार बनी है. जहाँ कांग्रेस में गुटबाजी और नाराज विधायकों के कारण उद्धव सरकार पर पहले से ही संकट के बादल छाए हुए हैं. ऐसे में कांग्रेस सेवादल का यह कदम शिवसेना और कांग्रेस के आगामी रिश्तों के लिए तो किसी भी लिहाज से ठीक नहीं हो सकते हैं.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply