July 6, 2020
Headlines राष्ट्रीय

भारत को सबक सिखाने के लिए चीनी सेना ने किया था हमला: ख़ुफ़िया रिपोर्ट में खुलासा  

डेस्क: लद्दाख के गलवान घाटी में LAC के पास 15 जून की रात को भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच भीषण सैन्य संघर्ष हुआ था. जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गये थे, जबकि चीन को भी भारी नुकसान हुआ था. इस हमले हमले ने दोनों देशों के बीच तनाव को बढ़ा दिया है. वहीँ इस संघर्ष को लेकर अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में अहम् खुलासा हुआ है. जिसके बाद से चीन की मंशा पर सवाल खड़ा हो गया है.

बतादें कि 15 जून की रात को लद्दाख के गलवान घाटी में LAC के पास भारतीय बलों और चीनी सेना के बीच भीषण हिंसक झड़प हुई थी. जिसमें 20 भारतीय जवानों की जान हसली गयी थी, जब कि चीन को भी भारी नुकसान हुआ था. वहीँ इस हिंसक झड़प ने पूरे विश्व को भारत और चीन के बीच बिगड़ते हालातों को लेकर चिंता में डाल दिया था. वहीँ अब इस हिंसक झड़प को लेकर एक खुफिया रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है. जहाँ बताया गया है कि कोरोना को लेकर चीन के खिलाफ अमेरिका सहित कई देशों की जांच और कार्रवाई का भारत द्वारा समर्थन किये जाने से चीन बौखलाया हुआ था.

आजकल खेतों में घास छील रहे हैं नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी: देखिये वीडियो

चीन ने भारत का ध्यान इन चीजों हटाने के लिए मई के शुरुआत में ही लद्दाख में भारत के साथ विवाद शुरू कर दिया. सीमा विवाद में उलझकर भारत अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन जैसे देशों द्वार चीन के खिलाफ शुरू की गयी कार्रवाई में शामिल नहीं होगा. सभी जानते हैं कि चीन को मात देने और कार्रवाई करने के लिए किसी भी विकसित देश को भारत की सख्त जरूरत होगी. अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि कोरोना महामारी के पैर पसारने के साथ ही भारत का अमेरिका के साथ रिश्ता तेजी से मजबूत हो रहा था.

कोरोना काल में नौकरियों की बारिश: चिट्ठी पहुंचाने का करें काम और पायें 14 हजार तक सैलरी..

Loading...

जिससे चीन को यह नागवार गुजरा और चीन ने भारत का ध्यान मुद्दे से भटकाने के लिए सीमा में सेना की घुसपैठ करवानी शुरू कर दी है. नाम न देने की शर्त पर पश्चिमी थिएटर कमांडर के जनरल झाओ जोंग्की और सेना के अन्य दिग्गज अभी भी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को सेवा दे रहे हैं. इन्हीं लोगों ने लद्दाख की गलवान घाटी में पीएलए को सैन्य ऑपरेशन करने की अनुमति दी थी. बताया कि झाओ ने नई दिल्ली सहित अमेरिका के अन्य सहयोगियों के आगे चीन के कमजोर पड़ने पर चिंता व्यक्त की थी और उन्होंने पीएलए को सैन्य गतिविधि का आदेश इसलिए दिया ताकि भारत को एक सबक दिया जा सके.

क्या है कांग्रेस का चीनी पार्टी के साथ कनेक्शन: जिसको लेकर नड्डा ने किया बड़ा हमला

चीनी सेना द्वारा की गयी झड़प महज एक झड़प नहीं थी. वह बीजिंग द्वारा प्रायोजित थी जिससे वह भारत को अपनी ताकत का संदेश दे सके. लेकिन इस हिंसक झडप में चीन को ही बड़ा  नुकसान हुआ है. झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए तो चीन को 35 के अधिक जवानों की जान से हाथ धोना पड़ा. चीनी सैनिकों को इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनके नुकीले हथियार उन्हीं के लिए मुसीबत बन जायंगे.

SC के फैसले के बाद 12 बजे से शुरू होगी जगन्नाथ रथयात्रा: लेकिन शामिल नहीं हो पाएंगे भक्त…

इस हिंसक झड़प के बाद जहाँ चीन को अधिक जवानों से हाथ धोना पड़ा बल्कि भारत में चीन और उसके सामान के प्रति लोगों का गुस्सा बढ़ गया और देश में लगातार चीनी सामान का बहिष्कार हो रहा है. कई सरकारी ठेकों में चीनी कंपनियों को बाहर कर दिया गया है जबकि कई लाइन में हैं. ऐसे में चीन को भारत के साथ सैन्य संघर्ष करवाके काफी नुकसान हुआ है.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply