March 25, 2019
देश बड़ी खबर

क्या अब भी चीन के पल्लू से बंधे रहेंगे हम भारतीय…

नई दिल्ली: कथित तौर पर जो हिंदी-चीनी भाई भाई का नारा दिया गया था. उसका मजाक चीन आज तक उड़ाता आया है. लेकिन उसके बाद भी हम चीन के पल्लू से बंधे रहना अच्छा समझते हैं. जबकि वह हर मोर्चे पर भारत को नीचा दिखाने और धोखा देने से बाज नहीं आता है.

Loading...

आपको बतादें कि चीन ने बुधवार को चौथी बार आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने में वीटो पॉवर का सितेमाल करते हुए भारत की कोशिशों पर पानी फेर दिया है. चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर चौथी बार तकनीकी रोक लगा दी है. 2009 के बाद वह चार बार भारत की कोशिशों को मिट्टी में मिला चुका है.. अगर सही मायने में देखा जाए तो पाकिस्तान से ज्यादा चीन, भारत के लिए मुसीबत बना हुआ है. लेकिन उसके बाद भी हम चीन के पल्लू से बंधे रहना ही उचित समझते हैं. इसका कोई भी कारण हो, राजनैतिक हो, आर्थिक हो या कथित हमारी दरियादिली. वहीँ चीन का पाकिस्तान के प्रति अटूट प्रेम लगातार बढ़ता ही जा रहा है. दरअसल पाकिस्तान से होते हुए चीन का सीपीईसी गुजर रहा है.

ऐसे में चीन को डर है कि अगर वह जैश-ए-मोहम्मद चीफ के खिलाफ कोई कदम उठाएगा तो उसके चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) पर मुसीबत आ सकती है. सीपीईसी प्रोजेक्ट चीन के सीक्यांग प्रांत को पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ेगा. इसके बीच में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (POK) और गिलगित-बाल्टिस्तान के साथ ही खैबर पख्तूनख्वा का मनसेहरा भी आता है. चीन यहाँ भी भारत की नाराजगी को नजरंदाज करता हुआ आगे बढ़ रहा है तो उधर आतंकी मसूद को बचाने के लिए हर कोशिश में लगा हुआ है.

ऐसे में वह तो रहा चीन और पाकिस्तान का मामला, फिलहाल भारत अब चीन को लेकर अपनी नीति में कोई बदलाव करता है या नहीं यह देखना होगा. क्योंकि चीन का बड़ा व्यापार भारत में फैला हुआ है, जबकि चीन में भारत की पहुँच न के बराबर है. अगर भारत चीन के खिलाफ आर्थिक तौर पर कोई कदम उठाया है तो चीन को इस बात का एहसास हो जाएगा कि आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई में अगर वह टांग अड़ाएगा तो उसे भी कहीं न कहीं भुगतना पड़ेगा. हालाँकि यह हमरे राजनीतिक क्षमता पर निर्भर करता है कि चीन के खिलाफ आर्थिक फैसले लेने की हिम्मत रखती भी हैं या नहीं.

Loading...

Related Posts