April 23, 2019
आस्था मुख्य खबरें

जानिए: होलिका दहन का शुभमुहूर्त, ऐसे करें पूजन

Happy Holi: भारतीय त्योहारों में प्रमुख माना जाना वाला होली यानी की रंगों का त्योहारों होता है. भारत में इसबार गुरुवार यानी की 21 मार्च को होली मनाई जा रही है. जोकि अगर हिंदी माह के अनुसार देखा जाए तो फाल्गुन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के एक दिन बाद मनाया जाता है.

भारत में फाल्गुन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के प्रदोष काल में होलिका दहन की जाती है. भारतीय और हिंदू त्योहारों में होली का ख़ास ही महत्व है. इस त्योहारों को लेकर कई कई की बातें प्रचलित हैं. उसके बाद भी भारत में यह त्योहार हिंदू ही नहीं बल्कि सबही समुदाय के लोग मिलकर मनाते हैं. रंगवाली होली से ठीक पहले होलिका का दहन किया जाता है.

इसके लिए एक ख़ास स्थान पर होलिका दहन की सामग्री इकठ्ठा की जाती है. होलिका डंडा बीच में रखें. भक्त प्रहलाद का प्रतीक एक डंडा होता है. डंडे के चारों तरफ पहले चन्दन लकड़ी डालकर कपूर से अग्नि प्रज्वलित की जाती है. होलिका दहन में पहले श्री गणेश हनुमान जी और शीतला माता भैरव जी की पूजा भी होती है. होलिका में रोली, पुष्प, चावल, साबूत मूंग, हरे चने, पापड़, नारियल आदि चढ़ाई जाती हैं. इस दौरान  मन्त्र -ॐ प्रह्लादये नमः बोलकर लोग परिक्रमा करते हैं.

होलिका दहन मुहूर्त- 21:05 से 11:31 तक.

भद्रा पूंछ- 17:23 से 18:24 तक.

भद्रा मुख- 18:24 से 20:07 तक.

पूर्णिमा तिथि आरंभ- 10:44 (20 मार्च)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 07:12 (21 मार्च)

Loading...

रंगवाली वाली होली- 21 मार्च को खेली जाएगी.

Loading...

Related Posts