July 8, 2020
Headlines राष्ट्रीय

निर्भया मामला: 14 जनवरी को SC में होगी दोषियों की क्यूरेटिव पिटीशन पर सुनवाई  

नई दिल्ली: साल 2012 के निर्भया गैंगरेप मामले में दो दोषियों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में लगाई गयी क्यूरेटिव पिटीशन पर 14 जनवरी को कोर्ट सुनवाई करेगा. दोषी मुकेश कुमार और विनय शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की थी.

बतादें कि निर्भया गैंगरेप मामले में फांसी की सज़ा पाए चारों दोषियों की फांसी की सज़ा के लिए पटियाला हाउस कोर्ट ने डेथ वारंट जारी कर चुकी है. 22 जनवरी को उन्हें फांसी की सज़ा दिए जाने की तैयारी की जा रही है. लेकिन फांसी की सज़ा से पहले ही दोषी विनय शर्मा और मुकेश कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर कर दी है. निर्भया मामले में एक दोषी विनय कुमार शर्मा आने सुप्रीम कोर्ट में अपने वकील एपी सिंह की ओर से क्यूरेटिव पिटीशन दायर करवाई थी. जिसपर अब कोर्ट के पाँच जजों की बेंच 14 जनवरी को सुनवाई करेगी.

विमान हादसा: अनजाने में यूक्रेन के प्लेन पर दाग दी थी मिसाइल-ईरान ने मानी गलती

Nirbhaya convicts file curative petition in supreme court

Loading...

इस मामले में दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा कि हमने 2017 में पवन गुप्ता की ओर से दायर SLP की प्रमाणित प्रति के लिए पटियाला हाउस कोर्ट में अर्जी दायर की है. दरअसल पिछले ही मंगलवार को पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया मामले के चारों दोषियों को फांसी की तारीख मुकर्र कर दी है. सभी को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी की सज़ा दिए जाने का डेथ वॉरंट जारी कर दिया गया है.

कन्नौज बस-ट्रक भिड़ंत: 20 से अधिक लोगों की गयी जान-हड्डियां तक हो गयी राख

उधर कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल होने से फांसी की सज़ा को आगे बढ़ाया जा सकता है. ऐसे में अगर कोर्ट क्यूरेटिव पिटीशन पर सुनवाई कर 22 तारीख़ से पहले अपना फैसला सुनाता है और वह फैसला निर्भया के पक्ष में जाता है और दोषियों की दया याचिका पर राष्ट्रपति के फैसले के बाद सभी आरोपियों को तय तारीख को फांसी दी जा सकती है, लेकिन अब यह सुप्रीम कोर्ट पर निर्भर करता है कि वह इस मामले की सुनवाई के बाद वह अपना फैसला कब देगा.

 

Loading...

Related Posts

Leave a Reply