December 14, 2019
राष्ट्रीय

जिन NCP MLAs की चिट्ठी के दम पर BJP ने बनाई सरकार: वह फर्जी निकली…

मुंबई: महाराष्ट्र में देवेंद्र फड़णवीस की अगुवाई में बीजेपी और एनसीपी गठबंधन की सरकार बनाने के लिए एनसीपी नेता अजीत पवार ने जो हस्ताक्षर किया हुआ चिट्ठी पेश की थी. उसकी फर्जी होने की संभावना है. शिवसेना सहित तीनों की याचिका में उन कागजातों को भी कोर्ट के सामने रखने को कहा गया है जिस आधार पर राज्य में सरकार का गठन किया है.

बतादें कि शनिवार सुबह राज्य्पल्का भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फड़णवीस को सीएम और एनसीपी नेता अजीत पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी. खबर थी कि एनसीपी नेता अजित पवार ने एनसीपी विधायकों के समर्थन वाला पत्र सौंपा था. वहीँ अब उसी पत्र को लेकर विवाद बढ़ गया है. शनिवार शाम को एनसीपी प्रमुख शरद पवार की अगुवाई में हुई एनसीपी विधायकों की बैठक में यह बात भी सामने आई है कि विधायकों ने बीजेपी को समर्थन देने के नाम पर किसी भी पत्र पर साइन नहीं किये हैं.

टहलने के बहाने निकले एनसीपी MLA, लेकिन गाड़ी निकाल भागने वाले ही थे तभी…

जबकि अजीत पवार के साथ जाने वाले करीब 10-12 विधायक (जिनमें कई उनका साथ छोड़ चुके हैं) उन्होंने तक किसी भी पत्र पर साइन करने की बात नहीं स्वीकार की है. ऐसे में अजीत पवार ने कौनसा पत्र बीजेपी को समर्थन देने के लिए दिया. इसको लेकर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका देते हुए उन सभी कागजातों को कोर्ट के सामने रखने को कहा है कि जिस आधार पर राज्य में सरकार का गठन किया गया है. वहीँ एनसीपी नेता नवाब मलिक ने शक जताया है कि अजीत पवार ने उस पत्र को बीजेपी को समर्थन देने के लिए पेश किया है जिस पत्र में उन्हें एनसीपी विधायक दल का नेता चुने जाने के लिए सभी विधायकों ने साइन किये थे. इसके अलावा अजीत पवार के पास किसी भी प्रकार का विधायकों का साइन किया हुआ पत्र नहीं था.

Loading...

एनसीपी का एक विधायक अचानक हुआ लापता: पुलिस में दर्ज करवाई गयी शिकायत

ऐसे में उस कथित पत्र को फर्जी माना जा रहा है. जिस पत्र के ही खेल में उलझकर बीजेपी ने मुसीबत की है और मामला सुप्रीम कोर्ट तक आ गया है. हालाँकि अभी कोर्ट में उन सभी कागजातों को रखा नहीं गया है. ऐसे में कुछ भी कह पाना मुश्किल है. आपको जानकारी हो कि शनिवार को महाराष्ट्र में बीजेपी और एनसीपी के गठबंधन की सरकार बन गयी है. जहाँ देवेंद्र फड़णवीस ने सीएम और अजीत पवार ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली है. लेकिन उनके शपथ के बाद बीजेपी के पास बहुमत को लेकर सवाल खड़ा हो रहा था.

अजीत पवार दे सकते हैं उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा

बीजेपी एनसीपी के जिन विधायकों के समर्थन की बात कर सरकार बना चुकी है उनमें से लगभग आधे से अधिक विधायक अजीत पवार का साथ छोड़कर शरद पवार के साथ खड़े हो गये हैं. ऐसे में 105 सीट जीतने वाली बीजेपी ने किस आधार पर सरकार बना ली है.

Loading...

Related Posts