Thursday, July 29, 2021

चुनाव आयोग के अधिकारियों पर मर्डर का चार्ज लगाया जाए तो गलत नहीं होगा: जानिए HC ने क्या कहा  

राष्ट्रीय

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने भारत में त्राहिमाम वाली स्थिति बना रखी है, इसी बीच पंचम बंगाल सहित पाँच राज्यों में चुनाव भी हुए नेताओं की रैलियां भी हुई, जहाँ बेसुमार भीड़ भी नजर आई. जिसके बाद बाद अब इन राज्यों में कोरोना वायरस का बड़ा विस्फोट हुआ है. इसको लेकर पहले से ही चुनाव आयोग की कार्यशैली पर सवाल हो रहे थे, लेकिन अब मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को फटकार लगाई है.

सोमवार को मद्रास हाईकोर्ट ने देशभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों और दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार बताते हुए कार्रवाई करने की बात कही है. मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एस. बनर्जी ने सुनवाई के दौरान कहा कि चुनाव आयोग ही कोरोना की दूसरी वेव का जिम्मेदार है. कोर्ट ने कहा कि क्यों न चुनाव आयोग के अधिकारियों पर मर्डर चार्ज लगाया जाए. दरअसल देश में जहाँ कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे थे वहीँ पश्चिम बंगाल, केरल सहित देश के पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव करवाए जा रहे हैं.

दुनियाभर में आलोचनाओं के बाद USA ने बढ़ाया मदद का हाथ: बढ़ेगा वैक्सीन प्रोडक्शन

चुनाव के लिए बड़ी बड़ी रैलियों की इजाजत और रोड शो की भी इजाजत चुनाव आयोग द्वारा ही दी जा रही थी. ऐसे में सवाल तो पहले ही उठा था कि क्या चुनाव आयोग नैतिकता के आधार पर महामारी को देखते ही सभी नेताओं की चुनावी रैली, रोड शो सहित भीड़ जमा करने वाले इवेंट्स पर रोक लगा दे. लेकिन ‘सरकारी कठपुतली’ कहा जाने वाला चुनाव आयोग ऐसा नहीं कर सका. अभी भी पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान चल रहा है.

पश्चिम बंगाल में आज सातवे चरण के लिए मतदान हो रहा है जबकि 29 अप्रैल को आधवे और आखिरी चरण के लिए मतदान किया जाएगा. जबकि कोरोना वायरस का ट्रिपल म्युटेंट भी बंगाल में सामने आया है जोकि तेजी से फ़ैल रहा है. इसके बाद भी राज्य में चुनावी प्रक्रिया जारी है और नेताओं द्वारा अभी भी भीड़ जमा की जा रही है. जिसको लेकर मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को फटकार लगाई है और कहा है कि चुनाव आयोग के अधिकारियों पर अगर मर्डर का चार्ज लगाया जाए तो गलत नहीं होगा.

मतगणना पर रोक लगाने की चेतावनी

कोरोना महामारी के बीच भी चुनाव आयोग द्वारा कोरोना गाइडलाइन को फॉलो ने किये जाने पर मद्रास हाईकोर्ट नाराज है. कोर्ट ने मतगणना पर रोक लगाने की चेतावनी दी है. कोर्ट ने कहा कि चुनाव आयोग मतगणना से पहले ही ब्लू प्रिंट पेश करे और बताये कि मतगणना क्या प्रबंध किये गये हैं. हाईकोर्ट ने 30 अप्रैल तक प्लान पेश करने को कहा है. इसके लिए आदेश दिया है कि चुनाव आयोग स्वास्थ्य सचिव के साथ मिलकर प्लान तैयार करे और पेश करे.

मद्रास हाईकोर्ट का EC पर फूटा गुस्सा: Covid की दूसरी लहर के लिए बताया जिम्मेदार-हो सकती है बड़ी कार्रवाई

देश में कोरोना वायरस की ‘सुनामी’ जैसी आई हुई है. सोमवार को ही पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 3 लाख 58 हजार नये मामले सामने आये हैं. पिछले पाँच दिनों से कोरोना के मामले तीन लाख पार जा रहे हैं. जोकि भयानक स्थिति है. लेकिन यह तो महज अभी शुरुआत है. मई जून तक देश में रोजाना कोरोना के मामले इसके डबल हो सकते हैं. अगर तत्काल कोई बड़ा कदम नहीं उठाया गया. फिलहाल केंद्र सरकार ने अभी लॉकडाउन पर कोई फैसला नहीं लिया है.

देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें.

- Advertisement -

More Article

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
- Advertisement -




Latest News