July 2, 2020
Headlines राजनीति

दिल्ली चुनाव परिणाम: AAP छोड़कर कांग्रेस में गयी अलका लांबा की जमानत जब्त

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव का परिणाम का चुका है. जहाँ सत्तारूठ दल आम आदमी पार्टी ने एकबार फिर से जीत दर्ज की है. वहीँ इस चुनाव में उन प्रत्याशियों को बुरी हार का सामना करना पड़ा. जोकि आम आदमी पार्टी से छोड़ अन्य दलों की टिकट पर चुनाव लड़े थे.

मंगलवार को आये दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम में आम आदमी पार्टी को 70  सदस्यीय विधानसभा में 62 सीटों पर जीत मिली है. जबकि बीजेपी ने आठ सीटों पर जीत दर्ज की है. उधर कांग्रेस इस बार भी खाता नहीं खोल पाई है. कांग्रेस के अधिकतर प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गयी है. जिसमें कई बड़े नाम भी शामिल हैं. पिछले समय आम आदमी पार्टी से कांग्रेस में शामिल हुई अलका लांबा भी कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ी थीं, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा. इसके अलावा बल्लीमारान से दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हारून यूसुफ, और मटिया महल से मिर्जा जावेद अली भी हार गये हैं.

Loading...

इनकी जमानत भी जब्त हो गयी है. पिछली बार अलका लांबा आम आदमी पार्टी के टिकट पर 18287 वोटों के अंतर से जीत हासिल की थीं. लेकर इस बार कांग्रेस की टिकट से चुनाव लड़ी लांबा को हार का मुंह देखना पड़ा. इस बार आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार प्रहलाद सिंह साहनी ने बीजेपी प्रत्याशी सुमन कुमार गुप्ता को 29584 वोटों से हरा दिया और अलका लांबा की जमानत जब्त हो गई. लांबा तीसरे नम्बर पर भी नहीं आ सकीं.

चांदनी चौक से कांग्रेस उम्मीदवार अलका लांबा को 3881 वोट मिले हैं. जबकि बीजेपी के सुमन कुमार गुप्ता को 21307 वोट हासिल हुए हैं. अलका लांबा ने पिछले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के टिकट पर चांदनी चौक से रिकॉर्ड जीत हासिल की थी. उन्होंने बीजेपी के सुमन कुमार गुप्ता को 16 हजार से अधिक मतों से हराया था.

उधर आम आदमी पार्टी से बीजेपी में शामिल हुए पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा भी अपनी सीट बचा नहीं पाए. दिल्ली विधानसभा चुनाव को ‘हिंदुस्तान बनाम पाकिस्तान’ चुनाव घोषित करने वाले कपिल मिश्रा करावल नगर से आम आदमी पार्टी के अखिलेश पति त्रिपाठी ने 11 हजार 133 मतों से पराजित किया. जबकि इसी सीट से साल 2015 ने उन्होंने बड़ी जीत हासिल कर केजरीवाल के मंत्रिमंडल में जगह पाई थी.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply