July 8, 2020
Headlines उत्तर प्रदेश

फर्रुखाबाद: कमांडो कार्रवाई में मारा गया बदमाश-सभी बंधक बच्चे सुरक्षित

लखनऊ/फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश एक फर्रुखाबाद के मोहम्मदाबाद के करथिया गाँव में एटीएस कमांडो और लोकल पुलिस ने कार्रवाई करते हए बदमाश द्वारा बंधक बनाये गये सभी 23 बच्चों और महिलाओं को सुरक्षित बाहर निकला लिया है. पुलिस और एटीएस कमांडो का यह ऑपरेशन रात एक बजे तक चला.

बतादें कि फर्रुखाबाद के गांव करथिया में गुरुवार को एक संतोष बाथम नाम के बदमाश ने अपनी बेटी के जन्मदिन एक नाम पर गाँव के करीब 23 बच्चों और कुछ महिलाओं को अपने घर बुलाया. जिसके बाद बदमाश ने उन सभी को बंधक बना लिया. जिसके बाद पुलिस और बदमाश के बीच कई घंटे तक ड्रामा चला. जब पुलिस के हाथ से मामला नहीं संभला तो लखनऊ से एटीएस की मदद ली गयी. रात करीब 9 बजे एटीएस कमांडो का एक दस्ता घटनास्थल पर पहुंचा और ऑपरेशन शुरू किया. बच्चों को बन्धक बनाने वाला बदमाश लगातार बच्चों को उड़ाने की धमकी दे रहा था. जिससे पुलिस प्रशासन सकते में था.

सीएम योगी ने बुलाई आपात बैठक

जामिया फायरिंग की घटना पर नाराज हैं गृहमंत्री शाह: पुलिस को दिया बड़ा निर्देश

फर्रुखाबाद कांड की खबर जैसे ही सुर्खियाँ बनी तो सरकार हारकर में आ गयी. सीएम योगी आदित्यनाथ ने देर रात करीब 9 बजे आपात बैठक बुलाई. मुख्य सचिव, डीजीपी, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर और गृह विभाग के प्रमुख सचिव को योगी ने बच्चों को सुरक्षित छुड़ाने के लिए तुरंत एक्शन लेने को कहा. यहाँ सीएम योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर फर्रुखाबाद के डीएम और एसपी से बात कर पुलिस को भी फटकार लगाई.

कई बार की फायरिंग

बच्चों को बंधक बनाने वाले बदमाश ने कई बार फायरिंग कर पुलिस को पीछे हटने पर मजबूर किया. जिसमें दो पुलिसकर्मी और एक नागरिक घायल हुआ है. बदमाश ने छत पर आकर पुलिस के सामने खुद के उपर दर्ज सभी आपराधिक मुकदमें  वापस लेने की मांग की. लेकिन जब पुलिस ने उसकी मांग नहीं मानी तो उसने पुलिस पर भी फायरिंग कर दी. जिसमें दो पुलिसकर्मी घायल हो गये.

ड्रोन से लिया घर का जायजा

Loading...

Photo Creadit: Amar Ujala

एटीएस कमांडो दस्ता पहुँचने के बाद भी बच्चों की सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल था. ऐसे में प्रशासन ने ड्रोन कैमरे के जरिये घर के उपर से हालात का जायजा लिया. क्योंकि बदमाश सुभाष लगातार धमकी दे रहा था कि वह बच्चों को उड़ा देगा. ड्रोन कैमरे में उसकी धमकी सही साबित हुई. घर में बड़ी मात्रा में बारूद होने की पुष्टि हुई. जिसके बाद भीड़ और भी भडक गयी. भीड़ ने बदमाश के घर के मुख्य दरवाजे को तोड़ दिया.

एनएसजी टीम भी हुई रवाना

फर्रुखाबाद का प्रकरण यूपी ही नहीं देशभर में सुर्खियाँ बन गया. देर रात एटीएस कमांडो के पहुँचने के साथ ही प्रशासन ने दिल्ली से एनएसजी टीम की भी मांग की. जिसपर दिल्ली से एनएसजी की टीम फर्रुखाबाद के लिए रवाना हुई.

कई घंटे बाद बदमाश की पत्नी आई बाहर   

चीन से केरल पहुंचा कोरोना वायरस: एक की मौत…  

रात करीब 11 बजे बदमाश सुभाष ने अपनी पत्नी और एक बच्चे को एक पत्र देकर बाहर भेजा. पत्र में उसने बताया कि वो काफी समय से सरकारी योजना के तहत घर और शौचालय की मांग कर रहा था लेकिन उसे अभी तक उसकी मांग पर कोई सुनवाई नहीं हुई थी. साथ ही उसने अपने उपर दर्ज सभी मामले खत्म करने की मांग की. बदमाश की पत्नी के बाहर निकलने के साथ ही पुलिस ने बदमाश को बातचीत में व्यस्त रखा. उधर एटीएस कमांडो की एक टीम पीछे से गेट पर तैयार खड़ी थी. रात करीब सवा एक बजे गांव वालों ने घर पर हमला कर मुख्य दरवाजा तोड़ दिया. जिसके बाद सुरक्षाबलों की एक टीम घर के अंदर दाखिल हुई और बदमाश सुभाष को मार गिराया. इस कार्रवाई में किसी भी बच्चे को नुकसान नहीं पहुंचा. उधर गुस्साई भीड़ ने बदमाश सुभाष की पत्नी रूबी की पिटाई कर दी. उसे गांव की महिलाओं ने जमकर पीटा. जिसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया. जहाँ उसने दम तोड़ दिया. बदमाश की एक साल की बच्ची भी है. जिसे पुलिस कड़ी सुरक्षा में सुरक्षित जगह पहुंचा दिया है.

सीएम योगी ने दस लाख के इनाम का ऐलान

फर्रुखाबाद प्रकरण के मामले में जब तक ऑपरेशन चला तब तक सीएम योगी आदित्यनाथ इस पर नजर बनाये रखे. दरअसल मामला की 23 मासूमों की जिन्दगी से जुड़ा हुआ था. देर रात पुलिस और एटीएस कमांडो ने बच्चों को सकुशल छुड़ा लिया. इस पूरी कार्रवाई में 5 पुलिसकर्मियों समेत 6 लोग घायल हुए हैं. पुलिस और एटीएस कमांडो ने बच्चों को सकुशल छुड़ाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिस की टीम के लिए 10 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply