October 23, 2018
Vichaar

…. क्यों खास है ज़िम्बाब्वे का चुनाव?

हरारे: अफ़्रीकी देश ज़िम्बाब्वे में सोमवार को चुनावी प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. अब देखना ये है कि जनता किसे चुनेगी. ये चुनाव ज़िम्बाब्वे निवासियों के लिए बेहद अहम है क्योंकि ये पहली बार है जब रॉबर्ट मुगाबे के बिना चुनाव हुए हैं. 37 सालों से सत्ता पर काबिज रहे रॉबर्ट मुगाबे को बीते साल राष्ट्रपति पद छोड़ना पड़ा था. उन्होंने इसे अपने खिलाफ होने वाली सैन्य साजिश करार किया था. रॉबर्ट मुगाबे की विदाई के बाद उनके करीबी सहयोगी रहे और पूर्व राष्ट्रपति इमरसन मनंगाग्वा को राष्ट्रपति बनने का मौका मिला था.

सत्ताधारी पार्टी जानू-पीएफ ने दोबारा  मनंगाग्वा को उम्मीदवार बनाया है. विपक्षी पार्टी एमडीसी के उम्मीदवार नेल्सन चमीसा हैं. संसदीय और स्थानीय चुनाव साथ ही हो रहे हैं. इस मौके पर पूर्व राष्ट्रपति मुगाबे ने पहली बार मीडिया को संबोधित कर अपने सहयोगी रहे इमरसन को आड़ो हाथों लिया. मुगाबे ने कहा कि वे इमरसन मनंगाग्वा को अपना वोट नहीं देंगे.

विशेषकर चुनाव में युवा वोटर की संख्या ज्यादा है, आधे से ज्यादा रजिस्टर्ड वोटरों की उर्म 35 साल से कम है. चुनावी प्रक्रिया सुचारू रूप से हो इसके लिए सैंकड़ों अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों को नियुक्त किया गया है. हालांकि विपक्षी  पार्टी इस बात को दरकिनार कर गलतियों का बीड़ा उठा रही हैं. साथ ही विपक्ष का दावा है कि बैलट पेपर की सुरक्षा पर ध्यान नहीं दिया गया है और लोगों को धमकाने का मुद्दा भी उठाया है.

चुनाव से पहले दोनों पार्टीयों जानू-पीएफ और एमसीडी के उम्मीदवारों ने राजधानी हरारे में लोगों को संबोधित किया. जानू-पीएफ पार्टी के उम्मीदवार मनंगाग्वा ने लोगों से वादा किया कि वह एक नए ज़िम्बाब्वे का निमार्ण करेंगे. उन्होंने “दावा किया कि हम सोमवार को चुनाव जीतने जा रहे हैं. हम आज या कल के लिए नहीं बल्कि बेहतर भविष्य के लिए मतदान कर रहें हैं, आने वाली पीढ़ियों की बेहतरी के लिए मतदान कर रहे हैं. हम मिलकर अपनी  जन्मभूमि के लिए आगे बढ़ाएंगे. हम मिलकर नए ज़िम्बाब्वे का निमार्ण  करेंगे”. विपक्षी पार्टी के उम्मीदवार नेल्सन चमीसा ने भी जीत का दावा किया साथ ही मौजूदा सरकार को दिशाहीन बताया. चमीसा अगर चुनाव जीतते हैं तो वह सबसे कम उम्र के राष्ट्रपति होंगे, वह महज 25 साल की उम्र में सांसद बने थे. ज़िम्बाब्वे के निवासियों को इस चुनाव से काफी उम्मीदें है , उनका विश्वास है कि नई सरकार उनके देश को स्थिरता और मजबूती देगी.

सिमरन शर्मा

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *