November 15, 2018
Uttar Pradesh

मजाक बन कर रह गया पॉलिथीन पर बैन 

नॉएडा: पॉलिथीन पर प्रतिबंध के बावजूद नोएडा में इसका इस्तेमाल धड़ल्ले से किया जा रहा है. दुकानदार पॉलिथीन बैग छुपाकर रखते हैं और चालाकी से उनका उपयोग करते हैं. इन दुकानदारों को न तो कानून का डर है और न ही पर्यावरण की चिंता. इनको तो बस अपने कारोबार की फ़िक्र है.

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश सरकार ने 15 जुलाई से पॉलिथीन पर बैन लगा दिया है. पॉलिथीन के प्रयोग पर तीन चरण में बैन लगेगा. पहले चरण में रविवार से पॉलिथीन पर रोक लग गई है.




15 अगस्त से प्लास्टिक, थर्मोकोल के कप, प्लेट, चम्मच आदि का प्रयोग बंद हो जाएगा. वहीं 2 अक्टूबर से सभी डिस्पोजबल प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. पहले दिन से ही लोकल दुकानदार आदेश की धज्जी उड़ाने में जुट गये.

बाजार में लोग पॉलिथीन लेकर घूम रहे हैं. हालांकि मॉल और बड़े रिटेल स्टोर पर पॉलिथीन का उपयोग बंद हो गया है. लेकिन यह ऊंट के मुंह में जीरे जैसा है. क्योंकि आम जनता शोपिंग माल में कम जाती है. वहीं, प्रशासनिक अधिकारी रतनलाल का कहना है “अभी तक कोई आदेश नहीं मिला है, फिर भी अधिकारियों ने पॉलिथीन जब्त करने की कुछ जगह कार्रवाई की, जिसमें 65 किलो पॉलिथीन जब्त की गई है”.

मंडी में दुकानदार पॉलिथीन में ही ग्राहकों को सब्जियां देते दिखे. यहां के फल बाजार में भी ऐसा ही हाल दिखा. सेक्टर-15 के बाजार में भी कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला जहां पॉलिथीन का उपयोग होता दिखा. हालांकि, शाम के समय कुछ लोग घर से बैग लेकर सामान खरीदने पहुंचे. नोएडा की कुछ बड़ी दुकानों पर पॉलिथीन का उपयोग नहीं मिला. सेक्टरों के अंदर बनी मार्केट में भी दुकानदारों ने पॉलिथीन का उपयोग बंद नहीं किया .

कई जगह कपड़ा, जूट के बैग का प्रयोग किया जाना शुरू हो गया है, लेकिन ग्रामीण और छोटे दुकानदारों के पास इसकी कोई व्यवस्था नहीं है. फल विक्रेता मोहम्मद का कहना है,“प्रशासन ने जल्दी में पॉलिथीन के खिलाफ अभियान शुरू किया है जिसकी वजह से हमें मुश्किल हो रही हैं. क्योंकि हमारे पास अभी थैलियों के स्टाक पड़े हैं, तो हम पहले वही इस्तेमाल करेंगे”. वहीं दूसरी तरफ प्रशासनिक अधिकारी का कहना है कि अगर किसी के पास  पॉलिथीन मिली तो कार्रवाई होगी. पॉलिथीन बनाने और प्रयोग करने वालों पर अलग से कारवाई की जाएगी.

रिपोर्ट: सिमरन शर्मा

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *