November 12, 2018
Desh

अब इस शहर का नाम बदलकर ‘कर्णावती’ करने जा रही है सरकार

जेआईडेस्क: बीजेपी शासित राज्यों में प्राचीन शहरों के नाम बदलने की होड़ मची हुई है. उत्तर प्रदेश में ही मंगलवार को छोटी दिवाली के मौके पर फ़ैजाबाद जिले को अयोध्या किये जाने के बाद खबर आ रही है एक और बीजेपी शासित राज्य में एक शहर का नाम बदले जाने की बात चल रही है.

बतादें कि एक मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुजरात सरकार, अपने राज्य के बड़े शहरों में गिने जाने वाले अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती करने पर विचार कर रही है. राज्य के उपमुख्यमंत्री सीएम नितिन पटेल ने गांधीनगर में मीडिया से बात करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार अहमदाबाद का नाम बदलने के लिए तैयार है, आगे उन्होंने कहा कि वह ऐसा करेगी बर्शते कोई कानूनी अड़चन न आए.

पटेल ने कहा, ‘लोगों में अब भी ऐसी भावना है कि अहमदाबाद का नाम कर्णावती किया जाना चाहिए. कानूनी बाधाओं को पार करने में अगर हमें आवश्यक समर्थन मिलता है तो हम महानगर का नाम बदलने के लिए हमेशा तैयार हैं.’ ऐसे में माना जा रहा है कि सरकार अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती करने वाली है. इससे पहले ही मंगलवार को ही छोटी दिवाली के मौके पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम जन्मभूमि अयोध्या में पूजा अर्चना के दौरान फ़ैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या जिला कर दिया था.

तस्वीरें: पीएम मोदी ने जवानों के साथ मनाई दिवाली: कहा आप हैं देश की ताकत   

इससे पहले इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया था. वहीँ हरियाणा सरकार ने गुडगाँव का नाम बदलकर गुरुग्राम कर दिया था. वहीँ अब गुजरात की विजय रूपां इ सरकार अहमदाबाद का नाम बदलने पर विचार कर रही है. अगर अहमदाबाद के इतिहास पर गौर करें तो इस शहर की नीव 11वीं सदी में पड़ी मानी जाती है, लेकिन कई मतभेद हैं. तब इसे अशावल नाम से जाता जाता था.

अमेरिका ने दिया भारत को दिवाली गिफ्ट, जानकार खुश हो जाओगे

अंहिलवाड़ा जिसका नाम अब पाटन है पर चालुक्य वंश के शासनकाल में राजा कर्ण ने अशावल के भील राजा पर हमला कर इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया था. जिसके बाद उन्होंने साबरमती नदी के तट पर कर्णावती नाम से शहर बसाया. लेकिन 1411 में सुलतान अहमद शाह ने कर्णावती के करीब ही एक नए शहर की आधारशिला रखी. जिसे अहमद नाम के चार संतों के नाम पर अहमदाबाद रखा गया था. वहीँ अब इसका भी नाम बदलने की तैयारी की जा रही है.

आप हमारे साथ फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *