November 14, 2018
Badi khabren Uttar Pradesh

जब अपनों के बीच अकेले पड़ गए सीएम योगी: मंच से ही संतों ने शुरू कर दिया विरोध  

अयोध्या: आगामी लोकसभा चुनाव की लड़ाई बीजेपी के लिए मुश्किल होती जा रही है. ऐसा  इसलिए कहा जा रहा है कि किसी सीएम के मंच से उसी का विरोध पहलीबार जो हुआ है. बीजेपी की राम मन्दिर निर्माण की रणनीति से संत समाज खासा नाराज है. जिसकी नाराजगी की झलक आज योगी के मंच पर ही दिखाई पड़ गयी.

बतादें कि सोमवार को उत्तर परदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ अयोध्या में महंत नृत्यगोपाल दास के जन्मोत्सव के कार्यक्रम पर पहुंचे हुए थे. इसी कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ को संतों के गुस्से और विरोध का सामना करना पड़ा. जब राम मन्दिर की बात आई तो संत  समाज ने बीजेपी की नीति का विरोध करना शुरू कर दिया और देखते ही देखते मंच पर आसीन लगभग सभी संतों ने एक सुर में इसका विरोध आगामी चुनाव में संत समाज की ओर से चुनौती भी दे डाली.

सोमवार को ही राम जन्मभूमि न्यास के सदस्य और बीजेपी के पूर्व सांसद रामविलास वेदांती ने सीएम योगी को उन्हें उनका ही पुराना बयान याद डलवाते हुए कहा कि, ‘अगर वह कभी मुख्यमंत्री बने तो राम मंदिर बनाकर दम लेंगे. राम विलास वेदांती ने कहा कि अब मीडिया उनसे सवाल करने लगा है. लोग उनसे मंदिर की तारीख पूछने लगे हैं. इसके साथ ही कन्हैया दास ने भी योगी के सामने चेतावनी भरे लहजे में कह डाला कि, ‘संतों का मुंह बिल्ली के जैसा होता जा रहा है जो अपने मुंह से अपने बच्चों को दबाकर बचाकर भी ले जाती है और उसी मुंह से शिकार भी कर लेती है. 


इसके आगे उन्होंने कहा कि भले ही योगी जी और मोदी जी की अंतरात्मा न जग रही हो लेकिन करोड़ों हिंदुओं की अंतरात्मा जाग चुकी है. ऐसे में स्थित कंट्रोल करने में जुटे सीएम योगी ने कई बार धैर्य और मन्दिर के प्रति अपनी भावना का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि मन्दिर निर्माण को लेकर समाधान निकाला जा चुका है, लेकिन हमें कोर्ट का भी सम्मान करना होगा. दरअसल आगामी लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी के लिए राम मन्दिर का मुद्दा गले की घंटी बन चुका है. संत समाज को भी लगने लगा है कि बीजेपी भी अन्य की तरह ही मंदिर के नाम पर सिर्फ वोट लेकर सत्ता चाहती है. अगर ऐसा नहीं है तो बीजेपी कब का अध्यादेश लाकर मन्दिर निर्माण का रास्ता प्रशस्त कर दे देती.

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *