November 18, 2018
Badi khabren Desh

देश की शर्मिंदगी पर मोदी सरकार का शर्मनाक रवैया

नई दिल्ली: दुनिया के सामने देश का भले ही सर शर्म से झुक गया हो. दुनियाभर में सुरक्षा, आतंकवाद का डंका पीटने वाले पीएम नरेंद्र मोदी के भारत को लेकर आई रिपोर्ट ने देश का मान-सम्मान गिरा दिया है, लेकिन हद तो यह है कि अब सरकार की महिला सुरक्षा के ‘खिलाफ’ आई रिपोर्ट को ही झुठला दिया गया है.

बतादें कि थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन ने हाल ही में महिलाओं सुरक्षा को लेकर एक रिपोर्ट जारी की थी. जिसमें भारत की स्थित बेहद दयनीय दिखाई गयी थी. महिला सुरक्षा को लेकर आई रिपोर्ट से घिरी मोदी सरकार ने अब नया दांव चलते हुए इस रिपोर्ट को ही झूठा करार दे दिया है. दरअसल रिपोर्ट में, भारत को महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश माना गया है. ऐसे में बेटी बचाओ से लेकर महिला सुरक्षा को लेकर तमाम दावे करने वाली मोदी सरकार के दावों की हवा निकल गयी है.

यह आंकड़े पिछले 2011 के आंकड़ों से कहीं ज्यादा खतरनाक है और भारत में वाकई महिलओं की ऐसी ही स्थित है. भले ही उन्हें बोलने की आजादी दे दी गयी हो लेकिन उनकी जीने की आजादी छीन ली गयी है. महिला सुरक्षा पर घिरी सरकार ने अब अपने बचाव का सस्ता और टिकाऊ तरीका निकाला है. क्योंकि रिपोर्ट को झूठा बता दो और जिम्मेदारी से बच निकलो.

थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन की रिपोर्ट के साथ भी कुछ ऐसा ही किया गया है. थॉमसन रॉयटर्स की रिपोर्ट पर सरकार के महिला विकास मंत्रालय ने बयान जारी कर कह है कि यह रिपोर्ट धारणाओं पर आधारित है उसका कोई सबूत या तथ्य नहीं बताये गये है.

सरकार के कुतर्क पर एक महिला ने कहा कि मोदी सरकार किन सबूतों और तथ्तों की बात कर रही है, बहन, बेटी, महिला के साथ रेप हो जाता है, विडिओ बनाकर वायरल कर दिया जाता है क्या यह सबूत काफी नहीं है?




इससे बड़ा और क्या सबूत चाहिए इन ‘ना’मर्दों की सरकार को? भले ही रिपोर्ट को खारिज कर अपनी पीठ थपथपा ली गयी हो लेकिन भारत में महिलओं की स्थित रिपोर्ट से भी दयनीय है.

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *