April 26, 2018
Kavita/kahaanee Sampaadakeey

कासगंज बदनाम कर दिया……

राजपाल सिंह

राजपाल सिंह

कासगंज बदनाम कर दिया……

कासगंज बदनाम कर दिया चंद वहाबी कपूतों ने

चंदन का देखो खून कर दिया चंद वहाबी कपूतों ने

मौन हमारा मौन रहा, हम इक शब्द न बोल सके

लहू हमारा छलनी कर दिया, चंद वहाबी कपूतों ने

कासगंज बदनाम कर दिया……

देश में सब गर भाई  है, तो गद्दार वो बोलो  कौन थे

तिरंगा जिनको भद्दा लगता,  मक्कार वो बोलो कौन थे

पूछ रही है मां भारती, चंदन की उस माटी से

मौन रहे क्यों सब बोलो, पूछ रहा परिपाटी से

माटी को क्यों लाल कर दिया, चंद वहाबी कपूत्तों ने

कासगंज बदनाम कर दिया……

ईश्वर अल्लाह एक है सब, फिर राम नाम से तकलीफ है क्यों

भाई-भाई यदि है सारे, फिर इक भाई से तकलीफ है क्यों

संस्कृति से खिलवाड़ कर दिया, चंद वहाबी कपूत्तों ने..

कासगंज बदनाम कर दिया, चंद वहाबी कपूत्तों ने

कासगंज पर कवि राजपाल सिंह चौहान की कविता…

Note- (यह लेखक के निजी विचार हैं)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Journalist India