November 14, 2018
Jammu Kashmir

आतंकियों को नहीं नसीब होगी जन्नत, क्योंकि सेना उनके शव के साथ भी करेगी यह काम?

श्रीनगर: जिहाद की राह पर चलते हुए जन्नत की राह देख रहे आतंकियों के लिए एक और बुरी खबर है. क्योंकि जिहाद की राह चुनकर कथित अल्लाह को खुश करने और जन्नत जाने का उनका सपना सेना ने तोड़ दिया है. अब न तो आतंकी जन्नत जाएंगे और न ही उनका जनाजा निकलेगा. क्योंकि सेना अब ज़िंदा ही नहीं मुर्दे आतंकियों के साथ भी कुछ ऐसा सलूक करने वाली है!

बतादें कि घाटी में आतंकियों के मारे जाने के बाद उनके शवों को परिजनों को सौंप दिया जाता था, लेकिन आने वाले समय में शायद ऐसा नहीं होगा. बताया जा रहा है कि शवों को परिजनों को सौंपे जाने के बाद उनकी शव यात्रा में आतंकियों का प्रदर्शन है और युवाओं को आतंकी बनने के लिए उकसाया जाता है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सैन्य मुठभेड़ में मारे जाने वाले आतंकियों के शवों को उन के परिजनों को सौंपने की प्रथा खत्म होने वाली है. अब सुरक्षाबल ही आतंकियों का क्रियाकर्म भी करेंगे.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बताया जा रहा है कि कश्मीर घाटी में लश्कर, जैश और हिज्बुल सहित बड़े आतंकी कमांडर के मारे जाने पर उनके शवों को परिजनों को नहीं सौंपा जाएगा. दरअसल यह फैसला सुरक्षा और घाटी में आतंक की राह पर बढ़ते युवाओं को देखकर लिया गया है. रिपोर्ट्स में कहा गया है कि टॉप स्तर के कमांडर के मारे जाने के बाद सुरक्षाबल ही उसे कहीं अनजान जगह पर दफन कर देंगे.

जिससे घाटी में आतंकी की शव यात्रा के नाम आन्दोलन और हिंसा न हो सके. अभी तक सुरक्षाबल घाटी में मारे गये आतंकियों के शव उनके परिजनों को सौंप देते थे. जिसके बाद परिजन और आतंकी मददगार मिलकर उनकी शव यात्रा निकालकर आतंकी का प्रदर्शन करते थे. ऐसे में युवाओं का ब्रेनवाश होता है और वह भी आतंक या जिहाद की राह चुन लेते हैं. माना जा रहा है इस को देखते हुए यह फैसला लिया गया है कि अब आतंकियों के शवों को सुरक्षाबल की दफनाएगी.

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *