April 26, 2018
Videsh

संयुक्त राष्ट्र में आतंकवाद पर पाकिस्तान की लगी क्लास!

संयुक्त राष्ट्र: आतंकवाद को लेकर एकबार फिर से भारत ने पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र में खरी खोटी सुनाते हुए बदलाव की मांग की है. भारत ने संयुक्त राष्ट्र से कहा है कि अफगानिस्तान सहित अपने पड़ोसी देशों में आतंकियों द्वारा हमले कराने और उन्हें सह देने के मामले में  पाकिस्तान जमकर खरी खरी सुनाई.

बतादें कि संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने अफगानिस्तान के मुद्दे पर सुरक्षा परिषद की एक उच्चस्तरीय बैठक में पाकिस्तान को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि आतंकवादी मानसिकता में बदलाव लाकर ही अफगानिस्तान में शांति लाई जा सकती है. यह तब संभव है जब हम पाकिस्तान को लेकर अपनी सोच में कुछ बदलाव लायें. वहीं अकबरुद्दीन ने कहा, आतंकवाद और बाहर से पैदा की गई अस्थिरता अफगानिस्तान की शांति, स्थिरता और संपन्नता के लिए सबसे गंभीर खतरा है और आतंकवाद का बढ़ता दायरा हमारे पूरे क्षेत्र के लिए खतरा है.

पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर घेरते हुए अकबरुद्दीन ने कहा कि भारत अफगानिस्तान में शांति, स्थिरता और विकास के लिए क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय साझेदारों के साथ मिलकर काम कर रहा है. जिसके लिए भारत सरकार काफी कदम बढ़ा भी चुकी है. भारत का सपना है कि अफगानिस्तान में शान्ति व्यवस्था कायम हो, लेकिन आतंकियों की पनाहगाह बना पाकिस्तान इन सभी प्रयासों पर पानी फेरना चाहता है. इस दौरान उन्होंने पठानकोट हमले का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि 2015 में पीएम मोदी ने लाहौर का दौरा किया था, और उसके कुछ ही समय बाद पठानकोट में आतंकी हमला हो गया. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की मानसिकता को समझने की जरुरत है. अकबरुद्दीन ने कहा कि यह मानसिकता अच्छे और बुरे आतंकवादियों के बीच फर्क करती है. यह मानसिकता नहीं चाहती कि शांति कायम रहे. आतंकवाद को लेकर अब नजरिया बदलने की जरुरत आ गयी है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद को पोषण देने वालों के खिलाफ अब उठना होगा. अकबरुद्दीन का निशाना पाकिस्तान ही था. ज्ञात हो कि आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को हर जगह मुंह की खानी पड़ती है. यहाँ तक की पाकिस्तान की हर मोर्चे पर तरफदारी करने वाला चीन भी आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान का साथ छोड़ चुका है. इसके बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Journalist India