November 13, 2018
Badi khabren karobar

नोटबंदी के दो वर्ष: ‘ये बीमार सोच वाला मनहूस कदम’

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ही के दिन यानी कि 8 नवम्बर 2016 को देर शाम नोटबंदी की घोषणा की थी, जिसके आज दो साल पूरे होने हो चुके हैं. ऐसे में नोटबंदी को लेकर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने नरेंद्र मोदी सरकार पर बड़ा हमला किया है.

बतादें कि गुरुवार को नोटबंदी के दो साल पूरे हो गए. नोटबंदी  के दो साल पूरे होने पर देश का विपक्ष नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला करने में लगा हुआ है. 8 नवम्बर साल 2016 को मोदी सरकार ने एक हजार और 500 के नोट को प्रचलन से बाहर कर दिया था. पुराने नोट बैंक से बदलने का आदेश जारी हुआ था जिससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था.

सरकार नोटबंदी को बड़ी उपलब्धि बताती रही है, तो वहीँ विपक्ष इसे आर्थिक आपदा बताता रहा है. गुरुवार को नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी मोदी सरकार पर करारा प्रहार किया है. उन्होंने इसे ‘बीमार सोच’ वाला और ‘मनहूस’ कदम करार दिया है. पुर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा, ‘नोटबंदी से भारतीय अर्थव्यवस्था पर जो कहर बरपा, वह अब सबके सामने है. नोटबंदी ने हर व्यक्ति को प्रभावित किया, चाहे वह किसी भी धर्म, जाति, पेशा या संप्रदाय का हो. अक्सर कहा जाता है कि वक्त सभी जख्मों को भर देता है लेकिन नोटबंदी के जख्म-दिन-ब दिन और गहराते जा रहे हैं.’

राजस्थान: 3.5 करोड़ में बिक रही कांग्रेस की एक टिकट, फिर 200 टिकट के कितने दाम?

पूर्व पीएम के साथ साथ कई विपक्षी दलों के नेताओं ने मोदी सरकार के इस कदम को देश की अर्थव्यवस्था डुबोने वाला जैसा बताया है. दरअसल नोटबंदी के बाद देश की अर्थव्यवस्था चरमराती नजर आ रही थी. नोटबंदी के लोगों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ा है. नोटबंदी करने का मकसद था कि देश से कालाधन बहार निकालना, लेकिन नोटबंदी में परेशानी का सामना आम जनता को ही करना पड़ा, वहीँ नोटबंदी के दौरान कितना कालाधन आया है इसका आजतक पता नहीं चल सका, साथ ही इसबात का भी खुलासा नहीं हो सका है कि नोटबंदी के दौरान किन किन लोगों के पास कालाधन मिला है?

आप हमारे साथ फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.

loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *