April 27, 2018
Jammu Kashmir

देश में चल रही है एक और पाकिस्तान बनाने की साजिश, JK के मुफ्ती ने खोली नापाक जुबान

श्रीनगर: 1947 में भारत को बंटवारे का जो दर्द मिला था वह अभी भी भुलाया नहीं जा सका है. महात्मा गांधी, पंडित नेहरु ने मिलकर देश को टुकड़ों में बाँट दिया था. एक दर्द पर देश की जनता अभी भी कराह रही है. वहीं कश्मीर से एकबार फिर से भारत में ही नया पाकिस्तान बनाने की चिंगारी उठी है. यह आग कश्मीर के डीप्टी ग्रैंड मुफ्ती ने उगली है.

आजाद भारत, और अभिव्यक्ति की आजादी का दुरुप्रयोग इन्हें जैसे जाहिलों ने किया है. जो आजाद भारत में बैठकर उसी को छलने, तोड़ने और कुरेदने का काम करते हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नमूने ने आजाद भारत में नये पाकिस्तान का सपना देखना शुरू कर दिया है. यह हैं जम्मू कश्मीर का डिप्टी ग्रैंड मुफ्ती नसीरुल इस्लाम. इनको आप नया जिन्ना भी कह सकते हो. ऐसा इसलिए है क्योंकि कि यह 2018 में भारत का विभाजन करके नये पाकिस्तान की मांग कर रहा है. मुस्लिमों का हितैषी बनने के चक्कर में देश को तोड़ने का सपना देखने लगे हैं. कासगंज हिंसा के बीच नसीरुल इस्लाम अपना एजेंडा लेकर आ गए, जिसमें मुस्लिमों से हमदर्दी के बहाने अलग देश की बात करने लगे.

नसीरुल इस्लाम जैसे लोगों ने ही कश्मीर का यह हाल किया है. उनकी घटिया सोच के कारण ही आज कश्मीर कराह रहा है. भारत में रहकर पाकिस्तान की बोली बोलने वाले इस कलंकी को सरकार का पूरा पूरा सहयोग मिला है. कौन सी सरकार यह बताने की जरूरत नहीं है. देश में सिर्फ एक ही राष्ट्रवादी सरकार है जिसके राज में तिरंगा यात्रा निकालना भी गुनाह हो गया है. ऐसे में नसीरुल इस्लाम जैसे कुकुरमुत्तों का मुंह उठाना लाजमी है. कासगंज हिंसा की आड़ में नासीरुल जैसे मुफ़्ती ने भारत में नये पाकिस्तान की बात छेड़ दी है. अभी तो इसका विरोध हो रहा है, लेकिन देश की सोच से न मिलने वाली एक सोच भारत में रहती है. वह कभी न कभी इसका समर्थन जरुर करती नजर आएगी. कभी तो कौम के नाम पर तो कभी इस्लाम के नाम पर.

हालाँकि देश के टुकड़े होना अब मामूली बात नहीं है क्योंकि यह 1947 का भारत नहीं 2018 का भारत है. लेकिन अब देखना यह होगा की देश की राष्ट्रवादी सरकार और जम्मू कश्मीर में आतंकियों का समर्थन करने वाली पार्टी के साथ मिलकर सरकार बनाने वाली पार्टी कब इस मुफ़्ती की जुबान खामोश करवा पाती है. अगर ऐसा नहीं होता है तो देश वाशियों को एक जंग के लिए फिर से तैयार रहना होगा. क्योंकि देश को तोड़ने वाली जुबान को काटा नहीं गया तो लगातार लम्बी होती जायेगी.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Journalist India