January 21, 2019
ऑफबीट

चीन का नया इस्लाम: ‘दाढ़ी, मूंछ, पहनावा और नमाज-रोजा सब पर बैन’

बीजिंग: भारत के पड़ोसी मुल्क चीन में इस्लाम को लेकर दुनियाभर में कई तरह भी ख़बरें आती रहती हैं. चीन में इस्लाम को पनपने नहीं दिया जाता है. चीन में इस्लाम की दुनियाभर में रीति-रिवाजों को भी बैन और रोकने की कोशिश की जाती रही है.

Loading...

बतादें कि एक न्यूज़ एजेंसी की खबर के अनुसार चीन सरकार ने एक ऐसा कानून पारित किया है जिससे इस्लाम में बदलाव की कोशिश की जाएगी. जिसे उसे चीन के कथित समाजवादी की धारणा में बदला जा सके. चीन के प्रमुख अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने छापा था कि आठ इस्लामिक संघों के प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक के बाद सरकारी अधिकारियों ने ‘इस्लाम को समाजवाद के अनुकूल करने और धर्म के क्रिया-कलापों को चीन के हिसाब से करने के कदम को लागू करने के लिए सहमति जताई है.

इसके आगे रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन ने हालिया वर्षों में धार्मिक समूहों के साथ धर्म को चीन के संदर्भ में ढालने को लेकर आक्रामक अभियान चलाया है. जिसमें उसके निशाने पर इस्लाम ही ज्यादा रहा है. चीन में इस्लाम के फलने फूलने पर वह पहले से ही रोक लगा चुका है, वहीँ अब इस्लाम के रीति रिवाजों को भी समाजवादी रंग दिया जा रहा है. चीन इस्लाम को लेकर हमेशा से सख्त रहा है. कई खबरों के अनुसार चीन में इस्लाम रीति रिवाजों का पालन करने की सख्त मनाही है. जिसमें मुस्लिमों को नमाज अदा करने, रोजा रखने, दाढ़ी बढ़ाने या महिला को हिजाब पहने पाए जाने पर गिरफ्तारी का सामना करना होता है. इतना ही नहीं सीक्यांग जैसे इलाकों में उइगर मुसलमानों चीन सरकार कई कथित प्रयोग भी करती रहती है.

बीजेपी नेता ने कहा ‘नरेंद्र मोदी-अमित शाह का जादू ख़त्म अब किसी और को मिले कमान’

‘सपा-बसपा गठबंधन रोकने के लिए डाली गयी सीबीआई रेड’

बीजिंग उइगर मुसलमानों के अलगावादी और चरमपंथी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर इन मुस्लिमों को इनडॉक्ट्र‍िनेशन शिविरों में रखा जाता है. जहाँ रीएजुकेशन के नाम पर उन्हें शराब पिलाई जाती है, कुरआन का बहिष्कार कर समाजवाद का पाठ पढाया जाता है. इनता ही नहीं कुछ समय पहले आई एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीन में लाखों मुस्लिम युवाओं को पकड़ के अज्ञात जगह पर बंद किया गया है. जिनका आज तक कोई पता नहीं चला है. इसको लेकर उइगर मुस्लिमों ने आरोप लगाया था कि चीनी प्रशासन हर साल यहाँ से युवाओं को पकड़ के ले जाती है और उन्हें मार दिया जाता है.

Loading...

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *