October 23, 2018
Home Archive by category Sampaadakeey

Sampaadakeey

Vichaar

मी टू की होली…!!

अरसे बाद अभिनेता नाना पाटेकर बनाम गुमनाम सी हो चुकी अभिनेत्री तनुश्री दत्ता प्रकरण को एक बार फिर नए सिरे से सुर्खियां बनते देख मैं हैरान था. क्योंकि भोजन के समय रोज टेलीविजन के सामने बैठने पर आज की मी टू से जुड़ी खबरें… की तर्ज पर कुछ न कुछ चैनलों की ओर से नियमित […]
Vichaar

#MeToo: उसने मेरा हाथ पकड़कर अपने पैंट पर रख दिया और बोला ‘इसका’ एहसास चाहिए तो फ़्लैट पर चलो…

नई दिल्ली: देशभर में #MeToo कैम्पेन के जरिये अहि तक सैकड़ों मामले सामने आ चुके हैं. जहाँ महिलाओने ने पूर्व में हुई यौन शोषण की घटनाओं का जिक्र किया है, लेकिन क्या मीडिया या अन्य संस्थानों में सिर्फ महिलाओं का ही यौन शोषण होता है? #MeToo के जरिये एक ऐसा ही सनसनीखेज मामला सामने आया […]
Vichaar

योगी जी के आश्वासन ने मुझे मौन कर दिया था

विगत मई माह में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से मेरी लम्बी वार्ता हुई थी और हाँ, योगी जी के इस आश्वासन पर, कि काशी विश्वनाथ कारिडोर परियोजना के तहत किसी भी मंदिर और धरोहर के साथ छेड़छाड़ नही होगी, मैं मौन हो गया था. सोचा था कि विकास होगा हजारों साल पुरानी […]
Vichaar

राष्ट्रकवि दिनकर की 110वीं जयंती पर पुस्तक विमोचन और काव्य पाठ

नई दिल्ली: राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की 110वीं जयंती पर पुस्तक विमोचन और उनकी जयंती के उपलक्ष्य में कविता पाठ का आयोजन, दिल्ली के आरटीओ स्थित हिन्दी भवन में किया गया. बतादें कि रविवार को राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की 110 वीं जयन्ती थी. इस मौके पर राजधानी दिल्ली में ‘पेनारोमा- द पेन्स वर्ल्ड’ की […]
Vichaar

लागा चुनरी में दाग, छुपाऊं कैसे

“ना खाउंगा ना खाने दूंगा” और “देश नहीं बिकने दूंगा” जैसे नारों के साथ सत्ता में आई केंद्र की भारतीय जनता पार्टी और नरेन्द्र मोदी की सरकार पर फ्रांस से लड़ाकू विमान खरीदने के सौदे में गड़बड़ी करने के आरोप लगते रहे हैं और इसमें संसद के अंदर और बाहर झूठ बोलने और गलत जानकारी […]
Vichaar

व्यंग्य: बदहाल अर्थव्यवस्था में आखिर क्या करे आदमी ….!!

व्यंग्य: बदहाल अर्थव्यवस्था में आखिर क्या करे आदमी ….!! कहां राजपथों पर कुलांचे भरने वाले हाई प्रोफोइल राजनेता और कहां बाल विवाह की विभीषिका का शिकार बना बेबस – असहाय मासूम। दूर – दूर तक कोई तुलना ही नहीं. लेकिन यथार्थ की पथरीली जमीन दोनों को एक जगह ला खड़ी करती है. 80 के दशक तक […]
Kavita/kahaanee

कविता: जीवन का ये लक्ष्य अटल है…

हिंदी दिवस के अवसर पर राजपाल सिंह की कविता जीवन का ये लक्ष्य अटल है हमने तुमने चुनना है हिंदी के उज्जवल इतिहास को अपने हाथ से बुनना है है विश्वास अपना ये हिंदी को शिखर स्थान मिले जहाँ जहाँ हो पूत माता के हर जगह हिंदी को सम्मान मिले सम्मानों का मार्ग बड़ा है […]
Sameeksha

भारत बंद आड़ में खेला जा रहा है खेल: सच्चाई जानकार खिसक जाएगी पैरों तले की जमीन!

नयी दिल्ली: आज पूरा देश एससी-एसटी एक्ट एवं जातिगत आरक्षण के खिलाफ खड़ा हो गया है. प्रत्येक दिन आंदोलन, झड़प, सांसदों, नेताओं का घेराव आम बात हो गयी है. ऐसे मानो देश में लॉ& आर्डर बिल्कुल चरमरा सी गई है, देश की 80% जनता सरकार के फैसले के खिलाफ सडक पर उतर चुकी है. दरअसल […]
Shiksha Vichaar

स्कूली शिक्षा में भूटान की अनोखी पहचान

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे में था उन दिनों. जी हजूरी और गलत बात देख कर भी चुप रहने की कला कभी सीख ही नहीं पाए और एक सेमीनार में बोलते हुए 2002 के गुजरात दंगों पर बेलाग टिप्पणी कर थी. उसी का नतीजा थी यह ‘काले पानी’ की सजा. मेरे लिए तो लेकिन यह पुरस्कार से […]
Sameeksha

‘आयुष्मान भारत योजना’ आकर्षक पैकिंग में सदी का सबसे बड़ा छलावा…

‘आयुष्मान भारत योजना’ आकर्षक पैकिंग में शताब्दी का सबसे बड़ा छलावा है. गरीबों के इलाज के नाम पर बीमा कंपनियों और निजी अस्पतालों की लूट का एक ऐसा सिलसिला शुरू होने वाला है जिसे नियंत्रण में लाना व्यवस्था के लिये संभव नहीं रह जाएगा. सार्वजनिक स्वास्थ्य को कारपोरेट सेक्टर के हवाले करने के कितने बड़े […]